-->

मेरी ब्लॉग सूची

सिस्टम का सच ! न आते डाक्टर, न कर्मी,  गार्ड के भरोसे हरिगांव का प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र

सिस्टम का सच ! न आते डाक्टर, न कर्मी, गार्ड के भरोसे हरिगांव का प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र

रिपोर्ट: सूरज कुमार राठी 

भोजपुर/जगदीशपुर । एक तरफ कोरोना महामारी को लेकर प्रखंडवासी भयभीत हैं, वहीं प्रखंड वासियों की स्वास्थ्य सुविधा को ले स्थापित पीएचसी खुद वेंटिलेटर पर है। शनिवार को प्रखंड के हरीगांव में छात्र संगठन आइसा की टीम ने अतिरिक्त स्वास्थ्य केन्द्र का दौरा किया। इस दौरान वहां कोई चिकित्सक व एएनएम मौजूद नहीं थे। सिर्फ एक गार्ड मौजूद था। माले नेता रंजीत बरई ने बताया कि यहां एक एएनएम व एक एमबीबीएस चिकित्सक की नियुक्ति हुई है जो शायद ही कभी दिखाई दिए हो। रामभरोसे चल रहा है ये स्वास्थ्य केंद्र।


सिर्फ एएनएम महीना में एक बार टीकाकरण के लिए आ जाती है। हरीगांव अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ केन्द्र 12 बेड का बना था लेकिन किसी चिकित्सक के नहीं बैठने के कारण कोई भी मरीज नहीं आता है। ओपीडी भी बंद ही रहता है। वहा उपस्थित गार्ड ने बताया कि 5 चपरासी की भी नियुक्ति हुई थी लेकिन रोज हमें ही अकेले ड्यूटी करनी पड़ती है। आइसा प्रखंड अध्यक्ष शाहनवाज खान ने बताया कि हरीगांव अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ केन्द्र के चिकित्सक के लिए एक अलग आवास का निर्माण किया गया है ताकि उन्हें रहने के लिए दूसरे जगह न जाना पड़े। लेकिन चिकित्सक के नहीं आने के कारण उनके आवास को किसी ग्रामीण ने अपना निजी गेहूं का गोदाम बना दिया है।

अगर जल्द चिकित्सक को यहां रेगुलर भेजा नहीं जाता है तो छात्र संगठन आइसा आंदोलन करेगी। मौके पर आइसा प्रखंड सचिव कमलेश यादव, प्रखंड अध्यक्ष शाहनवाज खान, माले नेता रंजीत बरई ,आइसा प्रखंड सह सचिव मनीष यादव, बलिराम यादव, ज्ञानू कुशवाहा,अमित कुमार सहित अन्य थे।

0 Response to "सिस्टम का सच ! न आते डाक्टर, न कर्मी, गार्ड के भरोसे हरिगांव का प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र"

एक टिप्पणी भेजें