शंख, घड़ी-घंटा, थालियों की तड़तड़ाहट व तालियों की गूंज ने तोड़ा जनता कर्फ्यू की सन्नाटा


बेगूसराय- हरेराम दास: मिथिलांचल में दीपावली की देर रात दरिद्रता भगाने व लक्ष्मी के घर आने को लेकर महिलाओं के सूप पिटने की परंपरा की महत्ता कोरोना भागे और सुख-शांति आये मामले में तब देखने को मिला जब जनता कर्फ्यू के दौरान अपराह्न 5 बजने से दो मिनट पहले से देखने को मिली. जी, हां कोरोना से बचाव में लगे लोगों के सम्मान में घड़ी-घंटा, शंख, थालियां व तालियों की गड़गड़ाहट सुनाई पड़ने लगी. घरों में कैद लोग.

कुछ देर के लिए अपने-अपने घरों से निकले. स्त्री-पुरूष, बच्चे, बूढ़े सभी के सभी ने थालियां पिटने में हिस्सेदारी निभाई. पीएम नरेंद्र मोदी के 5 मिनट के आह्वान की जगह 10 से अधिक मिनट तक थालियों की टनटनाहट सुनाई दी. इसके बाद लोग पुनः अपने घर में बंद हो गए. वैसे तो रात के 9 बजे तक घर में रहना को कहा गया है लेकिन लोग रात में भी घर से नहीं निकलने का निर्णय लिया है. भाजपा के जिलाध्यक्ष राजकिशोर सिंह ने कहा है कि जनता कर्फ्यू ही नहीं अगले 31 मार्च तक अनावश्यक घर से नहीं निकलें. अपने को आइसोलेशन के रहना बेहतर होगा. उनके कहा है कि कोरोना मामले में पूरा देश पीएम मोदी के साथ है. इधर आर्यभट्ट के निदेशक प्रो. अशोक कुमार सिंह अमर ने बताया कि लोहियानगर के लोगों ने रात 9 बजे के बाद भी घर से नहीं निकलने का निर्णय लिया है. उन्होंने कहा कि एसपी अवकाश कुमार के निर्देश पर जनता कर्फ्यू के दौरान पुलिस की भूमिका सराहनीय रही है.
दूसरी ओर जदयू जिलाध्यक्ष भूमिपाल राय ने कहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पहल पर सरकार की ओर से जारी हर हिदायत का पालन लोगों को करना चाहिए, तभी लोग सुरक्षित रह पाएंगे. जनता कर्फ्यू को सफल बनाने के लिए उन्होंने जिलेवासियों को बधाइयां दी है.

शहर के प्रसिद्ध कोचिंग संस्थान आर्यभट्ट लोहिया नगर के निदेशक अशोक कुमार सिंह अमर अपने परिवार बच्चों के साथ जनता कर्फ्यू की सफलता पर जिले वासियों को बधाई दी और उनके आभार व्यक्त के लिए तालियां बजाए

Post a Comment

0 Comments