पटना के बोरिग रोड में कॉल सेंटर के बाहर प्रेमिका के सामने प्रेमी ने खुद को मारी गोली

पटना : एसकेपुरी थाना क्षेत्र के बोरिग रोड स्थित दादी जी लेन में शनिवार दोपहर कॉल सेंटर के बाहर प्रेमिका के सामने प्रेमी ने अपने सिर में गोली मार ली। गोली सिर के पार हो गई। युवक की मौत वहीं हो गई। फायरिग की सूचना मिलते ही एसकेपुरी थानेदार नीरज कुमार, सचिवालय डीएसपी राजेश कुमार प्रभाकर पहुंच गए। शव के पास से पुलिस ने एक पिस्टल बरामद की। मृतक की पहचान 23 वर्षीय राजीव कुमार उर्फ मयंक के रुप में हुई, जो फुलवारीशरीफ के बोचाचक का निवासी था। एफएसएल टीम भी जांच को मौके पर पहुंची। मृतक की जेब से दो मोबाइल, पर्स में वोटर और पैन कार्ड व छह हजार नकद बरामद हुए।
: युवक का प्रेमिका से सेंटर के बाहर हुआ झगड़ा :
स्व. लालदास पंडित का बेटा राजीव बिजली की वायरिग का काम करता था। थानेदार नीरज कुमार ने बताया कि अब तक की जांच में पता चला कि उसका एक लड़की से प्रेम प्रसंग चल रहा था। लड़की दादी जी लेन स्थित कॉल सेंटर में काम करती है। शनिवार दोपहर करीब डेढ़ बजे राजीव उर्फ मयंक अपने तीन दोस्तों के साथ दादी जी लेन पहुंचा था। उसके तीनों दोस्त कॉल सेंटर से कुछ दूरी पर खड़े थे। राजीव कॉल सेंटर में गया। अपनी प्रेमिका के पास पहुंचा और उसका मोबाइल उठा लिया। मोबाइल साथ लेकर वह कॉल सेंटर के बाहर आया। पीछे-पीछे उसकी प्रेमिका भी सेंटर से बाहर आई। तब सेंटर के बाहर दोनों के बीच बहस होने लगी। 
प्रत्यक्षदर्शियों ने पुलिस को बताया कि बहस के दौरान ही राजीव ने कमर से पिस्टल निकाली और अपनी कनपटी पर सटा ली। इसी बीच कॉल सेंटर में काम करने वाले अन्य कर्मी बाहर आ गए और युवक के हाथ में पिस्टल देख घबरा गए। सभी सेंटर में छिप गए। युवक की यह हरकत देख लड़की भड़क गई। उसने कहा कि तुम मुझे धमकी दे रहो हो, यह सुन राजीव ने पिस्टल का ट्रिगर दबा दिया। गोली सिर में लगी और वह जमीन पर गिर पड़ा। गोली चलते ही लड़की और राजीव के दोस्त वहां से भाग गए।
: मोबाइल में कोड नाम से परेशान रही पुलिस :
घटना के कुछ देर बाद ही एसकेपुरी थाने की पुलिस पहुंच गई। तब तक राजीव की मौत हो चुकी थी। पुलिस ने कॉल सेंटर में काम करने वाले लोगों से पूछताछ शुरू कर दी। मृतक के घरवालों को खबर करने के लिए पुलिस ने उसके दोनों मोबाइल से नंबर खोजने शुरू किए। एक मोबाइल लॉक था, जबकि दूसरे मोबाइल में सेव नंबर पर नाम कोड में दर्ज किया गया था। पुलिस ने तीन घंटे तक उसके परिजनों से संपर्क करने के लिए मोबाइल में दर्ज सभी नंबरों पर फोन किए। लेकिन, हर किसी ने राजीव का अलग अलग नाम बताकर फोन काट दिया। कुछ देर बाद उसके मोबाइल से जुड़े अधिकांश लोगों ने नंबर ऑफ कर लिए। इसके बाद पुलिस ने उसकी जेब से वोटर आईडी कार्ड को बरामद किया। फिर फुलवारीशरीफ थाना पुलिस से संपर्क किया।
: प्रेमिका से पूछताछ करेगी पुलिस, बड़ा भाई पहुंचा थाने :
पुलिस की जांच में पता चला कि राजीव पूर्व में भी दादी जी लेन पर आता था। लेकिन, पहले कभी वह कॉल सेंटर नही गया था। लड़की और लड़का के बीच किस बात को लेकर विवाद था? वह लड़की का मोबाइल लेकर सेंटर के बाहर क्यों आया? साथ में वह पिस्टल लेकर क्यों और कहां से लाया था? लड़की से उसकी जान पहचान कैसे हुई? घटना के बाद कॉल सेंटर में काम करने वाली अन्य लड़कियां पुलिस को कुछ बताने से क्यों कतरा रही हैं? इन सभी बिंदुओं पर पुलिस ने तफ्तीश शुरू कर दी है।
थानाध्यक्ष नीरज कुमार ने बताया कि शाम करीब सात बजे राजीव का बड़ा भाई थाने पहुंचा। उससे पुलिस पूछताछ कर रही है। प्रेमिका की पहचान हो चुकी है। उससे भी पुलिस पूछताछ करेगी। राजीव के पास बरामद एक अन्य मोबाइल नंबर का सीडीआर निकाला जा रहा है।
: दूसरे मोबाइल की जांच करने में जुटी पुलिस :
जिस मोबाइल नंबर से पुलिस ने उसके भाई से संपर्क किया, उसमें कई संदिग्ध नंबर मिले। पुलिस यह जानकारी जुटाने में जुट गई है कि उस मोबाइल का सिम कार्ड किसके नाम पर है और अन्य कौन लोग उसके संपर्क में थे।

Post a Comment

0 Comments