मांगों को लेकर सेविका सहायिकाओं ने किया प्रदर्शन, सीडीपीओ कार्यालय के समक्ष की नारेबाजी

जगदीशपुर। अनुमंडल मुख्यालय अवस्थित बाल विकास परियोजना के समक्ष आंगनवाड़ी कर्मियों ने अपनी सत्रह सूत्री मांगों को लेकर बिहार राज्य आंगनवाड़ी संयुक्त संघर्ष समिति के आह्वान पर आठवें दिन भी धरना-प्रदर्शन जोर शोर से जारी रखा। इस दौरान केंद्र व राज्य सरकार के खिलाफ आक्रोशपूर्ण गगनभेदी नारे लगाए गए। धरना का अध्यक्षता मीरा देवी ने किया। धरनार्थियों को संबोधित करते हुए यूनियन के जिला महासचिव पूनम देवी ने कहा कि जमींदारी प्रथा, बंधुआ मजदूरी कानून समाप्त हो चुका है। फिर भी केंद्र और राज्य सरकार आंगनवाड़ी कर्मियों के साथ बंधुआ मजदूरों जैसा क्यों व्यवहार कर रही है। आज आगनवाड़ी में मेट्रिक से लेकर स्नातक पास तक की आगनबाडी सेविका अपना सेवा दे रही है। आखिर क्यो सरकार हमें स्कीम वर्कर कह कर अपमान कर रही है। आगे कहा कि मंत्री से लेकर विभाग के सचिव तक वेतन एवं पेंशन के हकदार है तो हमें क्यों नहीं वेतन और पेंशन चाहिए। हम संघर्ष के बल पर सरकार के झुका के रहेंगे व अपनी मांगे मनवा कर रहेंगे। इस मौके पर आशा देवी, बबीता देवी, ललिता देवी सुनीता देवी, नीतू कुमारी, प्रमिला देवी, धनवती देवी, मंजू देवी, कुसुम देवी, रिंकी देवी, सुलक्षणा देवी, सुमन देवी, सुगंधा देवी ने संबोधित करते हुए सरकार पर आरोप लगाते हुए अपनी मांगों को मांग की। मालूम हो कि अपनी सत्रह सूत्री मांगों को लेकर आंगनबाड़ी सेविका तथा सहायिकाएं बीते 31 अगस्त से धरना पर है।

Post a Comment

0 Comments