सिक्किम में शहीद हुआ बिहार का बेटा, दो दिन में दो सपूतों ने देश के लिए दी शहादत

बेतिया. देश की सुरक्षा में तैनात बिहार का एक और बेटा शहीद हो गया है. शहीद आर्मी (Indian Army Martyr) जवान बिहार के बेतिया का रहने वाला था जिसका शव बुधवार की सुबह पहुंचेगा. बेटे की शहादत से पूरे परिवार में कोहराम मचा है तो गांव में मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है.

मात्र 23 साल की उम्र में दी शहादत

मझौलिया प्रखंड क्षेत्र के बेखबरा गांव का रहने वाला जवान सिक्किम के रणकोश में पदस्थापित पिंटू कुमार चौरसिया (23वर्ष) विगत 03 मई को शहीद हो गया. वो जीडी के पद पर कार्यरत था. 06 मई को उसका पार्थिव शरीर बेख़बरा पैतृक निवास पहुंचेगा जहां राजकीय सम्मान के साथ उसकी अंत्येष्टि होगी.  परिवार के मुताबिक पहाड़ पर चढ़ने के दौरान ऑक्सीजन की कमी से जवान की मौत हो गई और वो शहीद हो गया. शहीद जवान के बड़े भाई सुबोध ने बताया कि जम्मू कश्मीर से विमान द्वारा शव आ रहा है जो कल दस बजे बेख़बरा पहुंच जायेगा.

चार साल पहले ही ज्वाइन की थी आर्मी

शहीद के पिता गोरखपुर रेलवे के वर्कशॉप में पदस्थापित हैं. शहीद पिंटू के पिता नागेंद्र प्रसाद चौरसिया बताते हैं कि पिंटू में बचपन से ही देशभक्ति का जज्बा था. खेल कूद में उसकी रुचि थी. वर्ष 2016 में उसकी नियुक्ति आर्मी में में हुई तबसे वह सिक्किम में पदस्थापित रहा. अभी वो अविवाहित था. मृत आर्मी मैन पिंटू के बड़े भाई सुबोध कुमार चौरसिया मझौलिया प्रखंड के कृषि विभाग में बतौर कृषि सलाहकार हैं. शहीद जवान की बहन भी दिल्ली मेंं सीआईएसएफ में कार्यरत है. बड़े भाई सुबोध ने बताया है कि शहीद के परिजनो में मातमी सन्नाटा पसरा है.

दो दिनों में दो शहादत

मालूम हो कि इससे पहले सोमवार को ही जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा में आतंकियों के साथ हुए एनकाउंटर में बिहार के लाल और औरंगाद के रहने वाले सीआरपीएफ जवान संतोष मिश्रा आतंकियों के साथ हुए मुठभेड़ में जाबांजी के साथ मुकाबला करते हुए शहीद हो गए थे. संतोष सीआरपीएफ के 92 बटालियन में थे. वर्ष 2004 में उन्होंने राष्ट्र भावना से अभिभूत होकर देश के लिये कुछ कर गुजरने का जज्बा लिए उन्होंने इसे जॉइन किया था.

Post a Comment

0 Comments