लॉकडाउन के बीच पीएम नरेंद्र मोदी आज सुबह 9 बजे देश को देंगे Video संदेश

नई दिल्ली : देश में लॉकडाउन होने के बाद भी कोरोना वायरस (Corona Virus) के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने गुरुवार को एक ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने कहा कि आज यानी शुक्रवार को सुबह 9 बजे देशवासियों के साथ मैं एक वीडियो संदेश साझा करूंगा. बताया जा रहा है कि पीएम नरेंद्र मोदी का यह वीडियो संदेश कोरोना वायरस और लॉकडाउन को लेकर हो सकता है.

आपको बता दें कि मोदी सरकार ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए 14 अप्रैल तक देशव्यापी लॉकडाउन कर रखा है. इसके चलते लोग घरों में कैद हो गए हैं और सड़कें सूनी हो गई हैं. वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को वीडियो क़ॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सभी मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की. इस दरान पीएम मोदी ने सभी मुख्यमंत्रियों को लॉकडाउन का कड़ाई से पालन करने के लिए कहा. बैठक में कोरोना से लड़ने के लिए राज्यों और केंद्र की तरफ से किए जा रहे उपायों पर भी चर्चा हुई.

पीएम मोदी ने सभी मुख्यमंत्रियों से कहा कि वह सुनिश्चित करें की लॉकडाउन के दौरान जरूरत का सामान आम जनता तक पहुंचे. उन्होंने इसके लिए किए गए इंतजामों पर बात की. साथ ही अपील की है कि जिन भी राज्यों में जमात के लोग गए हैं उन सभी लोगों को जल्द अस्पताल में भर्ती कराया जाए. लॉकडाउन के बाद देश के मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री की यह पहली बैठक है.

22 मार्च को लगाए गए जनता कर्फ्यू से दो दिन पहले 20 मार्च को प्रधानमंत्री मोदी ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की थी. उस समय उन्होंने कोरोना वायरस के वैश्विक खतरे के प्रति मुख्यमंत्रियों को आगाह करते हुए पूरे देश को एकजुट होकर इसका सामना करने की जरूरत पर जोर दिया था. 24 मार्च को पूरे देश में किए गए लॉकडाउन के बाद से राज्यों को प्रवासी मजदूरों से लेकर कई तरह की समस्याओं से जूझना पड़ा है.

हालांकि, कैबिनेट सचिव और गृह सचिव लगातार राज्यों के मुख्य सचिव और डीजीपी के साथ बातचीत कर हालात की समीक्षा कर रहे हैं. कोरोना के खिलाफ राजनीतिक नेतृत्व की एकजुटता ज्यादा जरूरी है. इसे देखते हुए प्रधानमंत्री के साथ मुख्यमंत्रियों की आज की बैठक अहम मानी जा रही है. उम्मीद है कि सभी मुख्यमंत्री पिछले एक हफ्ते के लॉकडाउन के अपने अनुभवों को साझा करते हुए राज्यों के सामने आ रही दिक्कतों को भी प्रधानमंत्री के समक्ष उजागर करेंगे.

Post a Comment

0 Comments