लॉकडाउन में लंदन से छठ में नही आएंगे राकेश पांडेय बिहार , घर से ही अर्घ्य देने का किया अपील

मोतिहारी। कोरोना वायरस के बढ़ते दुष्प्रभाव के बीच लागू लॉकडाउन में छठ घाटों पर सार्वजनिक रूप से छठ मनाने की मनाही है। इस बार घरों में व्रती छठ पर्व का चार दिवसीय अनुष्ठान करेंगी। पहली बार ऐसा होगा, जब घाट ‘कांचहि बांस के बहंगिया बहंगी लचकत जाए’, ‘दर्शन दीन्ही ना अपन ये छठी मइया’ आदि गीतों का व्रती सामूहिक प्रस्तुति नहीं दे पाएंगी। घर पर ही श्रद्धालु छठ पर्व मनाएंगे।


लंदन से बिहार के मोतिहारी के रहने वाले ब्रावो फार्मा के सीएमडी राकेश पांडेय ने बिहार से लोगो से अपील किया है। श्री पांडेय ने बिहार वासियों को छठ पूजा की शुभकामनाएं दी और अपील किया कि इसबार का छठ सभी कोई अपने घरों में मनाए। श्री पांडेय ने कहा कि कोरोना वायरस ने पूरे दुनिया को तबाह कर के रख दिया है। भारत मे 21 दिनों तक देशव्यापी लॉकडाउन है । लोक आस्था का महापर्व छठ हम बिहारियों के लिए सबसे बड़ा पर्व होता है, लॉकडाउन के वजह के कई लोग अपने घर नही पहुंच सके होंगे । मैं भी छठ में इसबार अपने घर आने वाला था लेकिन नही आ सका। उन्होंने छठव्रतियों से खासकर अपील किया कि इसबार छठ घाटों पर नही जाकर अपने घर पर ही साफ-सुथरे जगह पर जलाशय बनाकर भगवान सूर्य को अर्घ्य दें। बताते चले कि मोतिहारी के एकौना मठ, एमएस कॉलेज, अटल उद्यान, न्यू गोपालपुर, बेगमपुर, गायत्री नगर आदि घाटों पर छठ में अर्घ्य देने को बड़ी संख्या में व्रतियों की भीड़ उमड़ती थी। लेकिन, इस बार पर्व के रौनक को कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप ने गायब कर दिया है। चैती छठ शुरू होने के एक पखवाड़े पूर्व ही घरों में माहौल बनना शुरू हो जाता था। वहीं प्रशासनिक तैयारियां भी। इसमें घाटों की साफ-सफाई का कार्य महत्वपूर्ण था। हालांकि,
इस बार अब तक ना तो घाट की साफ-सफाई का कार्य शुरू हुआ और न ही घरों में पर्व की पूर्णरूपेण तैयारी। बाजारों में भी रौनक नहीं है। छठ पर्व में उपयोग होने वाली सामग्री बाजार में नहीं मिल रही। इसमें कोसी, दौड़ा, सुपली, अर्घ्य सामग्री आदि प्रमुख हैं। व्रतियों को इस बार चार दिवसीय अनुष्ठान में सामग्रियों के कमी का डर सता रहा। हालांकि, घर के लोग सभी सामग्रियों की उपलब्धता की कोशिशें अपने स्तर से कर रहे हैं। घरों में घाट बनाने की भी लोगों को परेशानी आ रही है।बतां दे कि खरना का अनुष्ठान रविवार को है। सोमवार को संध्या अर्घ्य दिया जाएगा। जबकि, मंगलवार को प्रात:कालीन अर्घ्य देने के साथ लोक आस्था का चार दिवसीय पर्व चैती छठ संपन्न होगा।




Post a Comment

0 Comments