जीविका दीदियों ने छेड़ा "कोरोना" के खिलाफ जंग।


अर्जुन कुमार/नरकटियागंज

पश्चिम चम्पारण जिला अन्तर्गत कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने की दिशा में  "जीविका" दीदियों ने अपनी कमर कस ली है। इस लड़ाई में दीदियों द्वारा बड़ी संख्या में मास्क का निर्माण कर हर जरूरतमंदों तक आसानी से पहुंचाया जा रहा है। साथ ही जिला प्रशासन एवं सरकार द्वारा कोरोना महामारी से बचाव के लिए उठाए गए हर जरूरी जानकारी को कैडर के माध्यम से जन समुदाय तक पहुँचाया जा रहा है।

इनके द्वारा एक ओर जहां कोरोना वायरस से बचाव पर आधारित लीफलेट वितरित कर समूह से जुड़ी दीदी एवं उसके परिवार को इससे बचाव के उपाय बताते हुए उन्हें जागरूक किया जा रहा है। वहीं दूसरी ओर अपने हुनर के दम पर महामारी के रोकथाम के लिए मास्क बनाने का काम किया जा रहा है। मास्क को सस्ती दरों पर स्वास्थ्य विभाग, प्रशासनिक कार्यालय एवं जनप्रतिनिधियों के माध्यम से आमजनों को मात्र 10-12 रुपया में उपलब्ध कराया जा रहा है। लोगों के बीच दीदी द्वारा हाथ से निर्मित मास्क काफी लोकप्रिय हो रहा है। जिले के क्वारनटाईन सेन्टर, आइसोलेशन सेंटर, सभी अस्पताल, मेडिकल कॉलेज तथा आमजनों में मास्क की सुलभता बनी रहे , इस बावत जिला  पदाधिकारी द्वारा "जीविका" को पर्याप्त संख्या में मास्क बनाने का निर्देश दिया गया है। वर्तमान में नौ प्रखंडों यथा बेतिया सदर, मझौलिया, नौतन, चनपटिया, बगहा-2, बगहा-1, गौनाहा, बैरिया, लौरिया के संकुल संघों द्वारा प्रतिदिन लगभग 4000 मास्क का उत्पादन किया जा रहा है। जिला परियोजना प्रबंधक अविनाश कुमार द्वारा बताया गया कि अब तक कुल 12000 मास्क का निर्माण कराया गया है। 10000 मास्क की आपूर्ति जिला स्वास्थ्य समिति बेतिया को की गई है तथा  2000 मास्कों की आपूर्ति प्रसाशनिक विभागों एवं पंचायतों के जनप्रतिनिधियों को किया गया है। इनके द्वारा जानकारी देते हुए यह बताया गया कि कोरोना जैसे जानलेवा महामारी से बचने के लिए सबसे पहले हमें अपने घर से शुरुआत करनी होगी और घर में रहकर संक्रमण की कड़ी को तोड़ना होगा। इसमें सभी लोगों की भूमिका महत्वपूर्ण है। हमें स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है । हम स्वयं संयमित रहते हुए केवल सोशल डिस्टेंसिंग जैसे नियमों पालन कर धैर्य एवं आत्मविश्वास के बदौलत हम कोरोना महामारी का जंग जीत सकते है।

Post a Comment

0 Comments