चौथी औलाद भी बेटी पैदा हुई तो पिता ने बच्चियों को कुएं में फेंका, खुद भी लगाई फांसी

DESK: राजकोट में एक पिता ने अपनी तीन बेटियों को कुएं में फेंकने के बाद खुद भी पेड़ से लटककर आत्महत्या कर ली. मृतक की पहचान जूनागढ़ के रहने वाले रसिक सोलंकी के रूप में की गई है जो जीआरपी का एक जवान था.
दरअसल रसिक की शादी को 10 साल हो चुके हैं. रसिक की तीन बेटियां थी. रसिक बेटा चाहता था. रसिक की पत्नि को जब चौथी बार भी बच्ची हुई तो रसिक दुखी हो गया. लगभग दो हफ्ते पहले ही रसिक की पत्नि ने चौथे बच्चे को जन्म दिया. दो दिन पहले ही रसिक की पत्नि अपनी नवजात बच्ची को लेकर कुछ दिनों के लिए अपने मायके चली गई. इसी बात का फायदा उठाकर रसिक ने आज दोपहर तीनों बच्चियों को बाइक पर बिठाया और गांव के बाहर खेतों में ले गया. 
रसिक ने कथित तौर पर तीनों बच्चियों को खेत में मौजूद 100 फीट गहरे कुएं में ढकेल दिया और खुद पेड़ पर फांसी लगा ली. ये खेत लालजी का है. इस खेत में काम करने वाले एक मजदूर ने रसिक को देखने के बाद रसिक के भाई वाल्जी को सूचित किया. आपको बता दें कि वाल्जी ने अपने भाई को तीनों बच्चियों के साथ गांव के बाहर जाते देखा था.
वाल्जी ने खेत में अपने भाई रसिक को पेड़ से लटकता हुआ पाया. बच्चियों का ढूंढा तो बच्चियों के शव कुएं में तैरते हुए मिले. स्थानीय लोगों की मदद से तीनों शवों को बाहर निकाला गया. उप-निरीक्षक एम सी चुडस्मा, भेसन पुलिस स्टेशन के ने बताया कि रसिक तीन बेटियों के बाद एक और बेटी होने से खुश नहीं था इसलिए ऐसा कदम उठाया.

Post a Comment

0 Comments