-->

मेरी ब्लॉग सूची

एक फरवरी से शुरू होगा इंटरमीडिएट एग्ज़ाम, नकल पर नकेल कसने की पूरी तैयारी में है बिहार बोर्ड

एक फरवरी से शुरू होगा इंटरमीडिएट एग्ज़ाम, नकल पर नकेल कसने की पूरी तैयारी में है बिहार बोर्ड


पटना : बिहार में होने वाले इंटरमीडिएट परीक्षा के लिए बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने दिशा निर्देश जारी कर दिए हैं. 1 फरवरी से शुरु होने वाली इंटरमिडिएट की परीक्षा 13 फरवरी तक चलेगी. इस परीक्षा में 38 जिलों में कुल 1,473 परीक्षा केंद्र बनाए जा रहे हैं. दो पालियों में परीक्षा संचालित की जाएगी. इस परीक्षा में 13 लाख 50 हजार 233 विद्यार्थियों ने फॉर्म भरा है, जिसमें 6 लाख 46 हजार 540 छात्राएं और 7 लाख 03 हजार 693 छात्र शामिल होंगे.इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा में पटना जिला में कुल 85 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं जिनमें सम्मिलित होने के लिए 39 हजार 93 छात्राएं और 41 हजार 789 छात्रों ने फॉर्म भरा है.

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर के अनुसार इंटरमीडिएट परीक्षा 2021 के आयोजन के क्रम में सभी जिलों में 4 मॉडल परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं, जहां सिर्फ छात्राएं परीक्षा में सम्मिलित होंगी और इन केंद्रों पर प्रतिनियुक्ति केंद्र अधीक्षक, दंडाधिकारी, वीक्षक सहित सभी पुलिसकर्मी भी महिलाएं ही होंगी.

सूचनाओं के त्वरित आदान-प्रदान और उसके निराकरण हेतु बीएसईबी एग्जाम 2021 के नाम से एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाया जाएगा जिसमें सभी जिला पदाधिकारी, जिला शिक्षा पदाधिकारी के साथ-साथ बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के पदाधिकारी भी जुड़े रहेंगे.

नकल पर नकेल कसने की पूरी तैयारी

आपको बता दें कि पटना में कुल 85 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं जहां कुल 81 हज़ार 8 सौ 88 छात्र - छात्राओं की परीक्षा आयोजित की जाएगी. वहीं इस पूरी परीक्षा के दौरान नकल पर नकेल कसने की भी तैयारी की गई है. इसके लिए सभी परीक्षा केंद्र पर सीसीटीवी के ज़रिए छात्रों की निगरानी की जायेगी.

बोर्ड ने इस बात की भी जानकारी दी है कि प्रति 500 छात्रों पर एक वीडियो ग्राफर नियुक्त किया जाएगा और प्रति 25 छात्रों पर एक वीक्षक भी मौजूद रहेंगे. इस तरह इस परीक्षा के दौरान छात्र किसी भी प्रकार से नकल नहीं कर सकेंगे.

इंटरमीडिएट परीक्षा को लेकर सभी जिला के परीक्षा केंद्रों को दिए गए दिशा निर्देश

इंटरमीडिएट परीक्षा को लेकर सभी जिला के परीक्षा केंद्रों को जो निर्देश दिए गए हैं उसके तहत परीक्षा केंद्र पर सीसीटीवी कैमरा लगाए जाएगें, साथ ही प्रति 500 विद्यार्थी पर एक फोटोग्राफर की व्यवस्था की जाएगी. हर 25 परीक्षार्थी पर एक विक्षक की प्रतिनियुक्ति की जाएगी साथ हीं हर परीक्षा कक्ष में न्यूनतम 2 वीक्षक ही रहेंगे.

परीक्षा केंद्र में परीक्षार्थियों के प्रवेश के समय गेट पर उनकी तलाशी की व्यवस्था की जाएगी. परीक्षा केंद्र में किसी भी विद्यार्थी का एडमिट कार्ड गुम हो जाएगा या भूल वश घर पर छूट जाए वैसे स्थिति में उपस्थिति पत्रक में स्कैंड फोटो से उसे पहचान कर रोल शीट से सत्यापित कर परीक्षा में बैठने की अनुमति दी जाएगी और इसकी लिखित सूचना समिति को भी अनिवार्य रूप से दी जाएगी.

विद्यार्थियों के लिए आवश्यक दिशा निर्देश

विद्यार्थियों को परीक्षा शुरू होने के 10 मिनट पहले परीक्षा केंद्र में प्रवेश कर लेना आवश्यक होगा. देर से आने की स्थिति में उन्हें परीक्षा में शामिल होने की अनुमति नहीं दी जाएगी परीक्षा केंद्र में केलकुलेटर, मोबाइल फोन, ब्लूटूथ, इयरफोन या अन्य इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स वर्जित किया गया है.

परीक्षार्थियों के लिए कोविड-19 को लेकर दिशा निर्देश

कोविड 19 को ध्यान में रखते हुए परीक्षार्थियों को मास्क लगाकर और हाथ में सेनीटाइज कर परीक्षा केंद्र में उपस्थित होने के निर्देश दिए गए हैं, साथ ही विद्यार्थियों को पक्ति वध कराकर परीक्षा केंद्र में प्रवेश कराए जाने की बात कही गई है. परीक्षा केंद्र में प्रवेश करने और निकलने के समय सामाजिक दूरी का पालन करना भी जरूरी होगा.

भारत सरकार, बिहार सरकार के गृह मंत्रालय, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, गृह विभाग स्वास्थ्य विभाग के द्वारा जारी कोविड-19 से संबंधी दिशानिर्देशों का पालन विद्यार्थी सहित परीक्षा कार्य में संलग्न पदाधिकारियों शिक्षकेतर, गैर शिक्षकेतर कर्मियों को करना अनिवार्य होगा.

0 Response to "एक फरवरी से शुरू होगा इंटरमीडिएट एग्ज़ाम, नकल पर नकेल कसने की पूरी तैयारी में है बिहार बोर्ड"

टिप्पणी पोस्ट करें