-->

मेरी ब्लॉग सूची

किसान चौपाल लगाकर कृषि कानून व सरकार की मंशा पर  की गहन चर्चा

किसान चौपाल लगाकर कृषि कानून व सरकार की मंशा पर की गहन चर्चा

भाकपा माले के अखिल भारतीय किसान महासभा की ओर पंचायतों में निकाला गया किसान संघर्ष यात्रा


जगदीशपुर (भोजपुर)। प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न पंचायतों में भाकपा माले के अखिल भारतीय किसान महासभा की ओर से किसान संघर्ष यात्रा के तहत किसान चौपाल लगाकर कृषि कानून और सरकार की मंशा पर गहन चर्चा की गई। शुक्रवार को पूर्व विधायक चंद्रदीप सिंह के अगुवाई में अरैला, देवराढ़, केशरी, दलीपपुर, ककीला, आटापुर, आयर, हरीगांव, बभनियांव, हाटपोखर, दांवा ,चकवा, व नगर पंचायत, जगदीशपुर में जन संवाद कार्यक्रम किया गया। यह अभियान आगामी 27 दिसंबर तक चलेगा। पूर्व विधायक ने कहा कि मोदी सरकार इस कृषि कानूनों के जरिए खेती को बर्बादी के तरफ ले जाना चाहती है। जब आलू, प्याज, खाद्य तेल, दलहन, चीनी का आयात किया जा रहा है उपजाऊ जमीन, मेहनती किसान रहने के बावजूद भी तो सरकार की मंशा साफ जाहिर हो रही है कि किसानों के प्रति सरकार का नजरिया नकारात्मक है।
देश में गन्ना किसानों का 17 हजार करोड़ रुपए बकाया है और साढ़े 3 हजार करोड़ रुपए देकर, किसानों को चेहरे पर मुस्कान आने की बात कह रही है। उन्होंने कृषि कानूनों पर बोलते हुए कहा कि सरकार APMC मंडी और MSP को खत्म कर देना चाहती है ताकि खेती से तंग आकर लोग, अडानी-अंबानी के कम्पनियों को सस्ता मजदूर उपलब्ध हो सके। इस मौके पर विजय ओझा, बिनोद कुशवाहा, इंदु सिंह, कमलेश यादव, राम आशीष यादव, गनेश कुशवाहा, आइसा नेता कमलेश यादव, शाहनवाज खान समेत अन्य मौजूद रहे।

0 Response to "किसान चौपाल लगाकर कृषि कानून व सरकार की मंशा पर की गहन चर्चा"

एक टिप्पणी भेजें