AISF छात्रों ने शहर में आक्रोश मार्च निकाल, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पुतला फूंका।

सारण :(पत्रालाल कुमार )
ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन (एआईएसएफ) सारण जिला इकाई के छात्रों ने संगठन के राज्यव्यापी आह्वान पर अपनी विभिन्न मांगों इंटरमीडिएट नामांकन में छात्रों से अवैध वसूली बंद कर, छात्रों से अवैध वसूली किए गए रुपए की वापसी करने, कोरोना एवं बाढ़ काल में 06 माह के बिजली बिल एवं रूम रेंट माफ करने, नई शिक्षा नीति 2020 वापस लेने, निजीकरण पर रोक लगाने, बढ़ती बेरोजगारी दूर करने, सभी तरह की प्रतियोगी परीक्षाओं, विश्वविद्यालयों की परीक्षाओं को तत्काल रद्द करने, आदि को लेकर शहर में आक्रोश मार्च निकाला एवं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पुतला फूंक रोष प्रकट किया।
पुतला दहन के पहले छात्रों का एक जत्था नगर पालिका मैदान से निकला जो सरकार एवं स्थानीय प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ नारेबाजी करते नगर थाना चौक होते हुए म्युनिसिपल चौक पहुंचा जहां छात्रों ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पुतला फूंक रोष प्रकट किया।
पुतला दहन के बाद सभा को संबोधित करते हुए राज्य उपाध्यक्ष राहुल कुमार यादव ने कहा कि कोरोना व भयंकर बाढ़ के बीच इंटरमीडिएट नामांकन में छात्र-छात्राओं से अवैध वसूली करना इंसानियत को शर्मसार करने वाली है।
केंद्र एवं राज्य सरकार की गलत नीतियों के कारण, बढ़ती बेरोजगारी के बीच छात्रों का शोषण लगातार जारी है।
सरकार एवं स्थानीय प्रशासन द्वारा हमारी मांगों को जल्द पूरी नहीं की गई तो आगे आने वाले 8 सितंबर को संगठन सारण डीएम का घेराव करेगा।
वहीं राज्य-पार्षद अमित ने कहा कि इंटरमीडिएट नामांकन में छात्रों से अवैध वसूली व हमारी अन्य मांगों पर जिला प्रशासन एवं सरकार गंभीर नहीं हुई तो संगठन उग्र आंदोलन को बाध्य होगा जिसकी पूरी जवाबदेही जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला प्रशासन व सरकार की होगी।
पुतला दहन में मुख्य रूप से नगर संयोजक अभिषेक सौरव, शिबू वर्मा, अभय कुमार चौबे, अमन कुमार, प्रशांत द्विवेदी, नवजीवन कुशवाहा, दीपक पांडे, अनिकेत कुमार शर्मा, गुड्डू यादव, विकास यादव, इरफान अली आदि थे।

Post a Comment

0 Comments