जदयु कार्यकर्ताओं ने अपने हीं दल के विधायक निरंजन कुमार मेहता के खिलाफ फुँका बगावत का बिगुल

मधेपुरा। विधान सभा चुनाव के नजदीक आते हीं बिहारीगंज विधानसभा में जदयु विधायक निरंजन कुमार मेहता और उनके हीं पार्टी के जदयु कार्यकर्ताओं के बीच का अंर्तकलह अब खुलकर सामने आने लगा है। प्रखंड से लेकर जिला स्तर तक के पार्टी पदाधिकारियों ने बिहारीगंज विधानसभा के जदयु विधायक निरंजन कुमार मेहता के खिलाफ बगावत का बिगुल फुँक दिया है। सोमवार को बिहारीगंज के वाणिज्यिक समिति धर्मशाला में जदयु कार्यकर्ताओं ने विधायक पर जमकर अपनी भरांस निकाली। नीतीश कुमार से बैर नहीं, विधायक निरंजन कुमार मेहता तेरा खैर नहीं के बैनर पोस्टर लगाकर विधायक के विरोध में जमकर नारे लगाए। कार्यकर्ताओं ने विधायक को जनता और कार्यकर्ता विरोधी बताया। मौका था गम्हरिया के जदयू प्रखंड अध्यक्ष अशोक कुमार उर्फ गरजु को गोली मारकर हत्या किए जाने के बाबत जिला जनता दल यूनाइटेड बिहारीगंज विधानसभा मधेपुरा के तत्वाधान में किसान प्रकोष्ठ के जिला अध्यक्ष अभय कुमार मेहता के अध्यक्षता में आयोजित श्रद्धांजलि सभा के आयोजन का। इससे पहले कार्यक्रेताओं ने दो मिनट का मौन धारण कर दिवंगत अशोक कुमार उर्फ गरजू के आत्म के शांति हेतु ईश्वर से प्रार्थना किया। ततपश्चात कार्यकर्ताओं ने विधायक पर शुरुआती दौर से हीं कार्यकर्ताओं का उपेक्षा करने का आरोप लगाते हुए कहा कि महागठबंधन से नाता टूटने के बाद भी विधायक का राजद कार्यकर्ताओं से मोह भंग नहीं हुआ है। विधायक अभी भी राजद से टिकट लेने के जुगाड़ में लगे हुए हैं। ऐसे में अगर पार्टी विधायक निरंजन कुमार मेहता को फिर से टिकट देती है तो बिहारीगंज विधानसभा में जदयु पार्टी को करारी हार का सामना करना पड़ेगा। सभी कार्यकर्ताओं ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के प्रति आगाध प्रतिबद्धता जताते हुए विधायक निरंजन कुमार मेहता का टिकट काटकर किसी और पार्टी कार्यकर्ताओं को टिकट देने की मांग उठाई है।

आयोजित कार्यक्रम का अध्यक्षता कर रहे किसान प्रकोष्ठ के जिला अध्यक्ष अभय कुमार मेहता ने कहा कि मुख्यमंत्री महोदय का ड्रीम प्रोजेक्ट शराबबंदी अभियान का मखौल उड़ाते हुए विधायक श्री मेहता खुद शराब पीकर सरकार और कार्यकर्ता के विरुद्ध अनाप-शनाप बयान देने का काम करते हैं। जिसका ऑडियो रिकॉर्डिंग वायरल भी हो चुका है। जो जन जन के पास पहुंच चुका है। लोकतांत्रिक व्यवस्था में भी विधायक अपने आप को राजा समझते हैं तथा प्रजा को कीड़ा-मकोड़ा समझ कर सड़क पर कुचलने का काम करते हैं। सेविका सहायिका बहाली में विधायक द्वारा घूस लेने का ऑडियो वायरल हुआ जो जगजाहिर है। सरकार का अंग होकर सरकार के बनाए नियम को तोड़ने में माहिर हैं, नियमों को ताक पर रखकर चाहे अपने ही विधायक चाचा की जमीन पर बिना एनओसी लिए जबरन सड़क बनाना हो या अपने पंचायत में बिना विद्युत विभाग से कनेक्शन लिए प्रत्येक बिजली पोल पर स्ट्रीट लाईट जलाना हो। जो विधायक खुद अपने ही गांव की सड़क बनाने में नाकाम रहा हो और उनके गाँव कि जनता ट्रेक्टर से सङक जोतकर धान रोपनी कर विधायक खुद अपना, पार्टी कार्यकर्ताओं और मुख्यमंत्री जी का फजीहत कराता हो। ऐसे विधायक को टिकट देना पार्टी हित में कतई ठीक नहीं होगा।

पार्टी के प्रदेश महासचिव प्रदीप साह ने कहा कि विधायक अपने पुरे कार्यकल में विधानसभा में विकास कार्य ठप कर रख दिया है। विधानसभा क्षेत्र में दर्जनों सङक जलमग्न है सङक पर बने गड्ढे में विधायक खुद अपनी गांङी फॅसवाकर जगहॅसाई कर चुके हैं। कार्यकर्ताओं के मान सम्मान के साथ खेलना इनके आदत में सुमार है। इनके कार्यकलाप से पार्टी और मुख्यमंत्री जी का भी छवि इस विधानसभा क्षेत्र में धूमिल हो रहा है। ऐसे विधायक को टिकट दिया जाना गोबर में घी डालने के बराबर होगा। उन्होंने मुख्यमंत्री से पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच से ही किसी को टिकट दिए जाने की मांग की है ताकि एक बार फिर से बिहारीगंज विधानसभा में जदयु का परचम लहराए।

अल्पसंख्यक सेल के प्रदेश सचिव मो आजाद ने कहा कि विधायक श्री मेहता द्वारा पार्टी कार्यकर्ताओं की उपेक्षा किए जाने और महागठबंधन टूटने के बाद भी राजद कार्यकर्ताओं से मोह भंग ना कर प्रेम बढाने के कारण कार्यकर्ताओं ने इस बार विधायक श्री मेहता के उम्मीदवारी पर एतराज जताया है। सभी जदयू कार्यकर्ताओं ने एकजुट होकर विधायक श्री मेहता के खिलाफ बगावत का बिगुल फूंक दिया है। विधायक के कार्य शैली से नाराज सभी कार्यकर्ताओं ने एक स्वर में राष्ट्रीय अध्यक्ष सह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मांग उठाया है कि बिहारीगंज विधानसभा से जदयू उम्मीदवार को बदल दिया जाए वरना बिहार में सबसे अधिक वोट से किसी जदयू प्रत्याशी की हार होगी तो वह बिहारीगंज विधानसभा का जदयु प्रत्याशी निरंजन कुमार मेहता होंगे। कार्यकर्ताओं का मानना है कि जो विधायक अपने घर-परिवार अपने गाँव-ग्रामीण का वफादार नहीं हो सका वो विधायक पार्टी कार्यकर्ताओं और पार्टी के प्रति क्या वफादारी निभाएगी। मौके पर खेल कूद प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष विवेकानंद शर्मा, प्रशिक्षण प्रकोष्ठ के प्रदेश महासचिव दयानंद शर्मा, जिला उपाध्यक्ष प्रेम प्रवेश उर्फ प्रशांत कुमार, सहकारिता प्रकोष्ठ के जिला उपाध्यक्ष प्रमोद कुमार शर्मा, जिला महासचिव विजय सिंह, मोहन पासवान, लखन लाल शर्मा, कुमुद रंजन कुमार, बलबीर रजक, उमेश शाह, राजेश्वर दास, विष्णु देव मेहता, ने अपने विचार व्यक्त कर विधायक के प्रति नाराजगी वयक्त कर मुख्यमंत्री से बिहारीगंज विधानसभा से जदयु उम्मीदवार बदलने कि माँग उठाई। मौके पर सैकड़ों जदयु कार्यकर्ता मौजूद थे।

Post a Comment

0 Comments