दिनेश मुनि के मारे जाने के बाद शहीद थानाध्यक्ष के परिजनों से मिले डीजीपी, बोले-हमारा संकल्प पूरा हुआ, ऑपरेशन में शामिल पुलिसकर्मी होंगे पुरस्कृत


PATNA : नवगछिया के नारायणपुर दियारा में पसराहा थानाध्यक्ष आशीष कुमार की हत्या के मुख्य आरोपी दिनेश मुनि के मुठभेड़ में मारे जाने के बाद शहीद एसएचओ (थानाध्यक्ष) आशीष कुमार की पत्नी और बच्चों से डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने गुरुवार को उनके घर जाकर मुलाकात की।

इस अवसर पर डीजीपी ने कहा कि हमारा संकल्प पूरा हुआ। सरकारी प्रावधान के अनुसार शहीद थानाध्यक्ष के परिजनों को पूरी सहायता दी जाएगी। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि उस समय किए गए कुछ वादे पूरे नहीं हुए हैं। संज्ञान में हमारे लाया गया है, उसमें कोई कमी नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि दिनेश मुनि को मुठभेड़ में मार गिरानेवाले पुलिसकर्मियों और अधिकारियों को पुरस्कृत किया जाएगा।




वहीं, पूरे मामले पर शहीद थाना प्रभारी की पत्नी ने कहा कि सरकार ने बहुत कुछ दिया है। हम अपने बच्चों का परवरिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि और जो आर्थिक मदद मिलने वाली है वह जल्द मिल जाए तो बच्चों की पढ़ाई-लिखाई में होनेवाली खर्च भी पूरी कर पाउंगी।

आपको बता दें कि 12 अक्टूबर 2018 को खगड़िया और नवगछिया की सीमा पर मौजमा दियारा में दिनेश मुनि के साथ पसराहा थाने की पुलिस की मुठभेड़ हुई थी, जिसमें पसराहा थानाध्यक्ष आशीष कुमार सिंह शहीद हो गए थे और एक सिपाही घायल हुआ था। उस इनकाउंटर में दिनेश मुनि का एक सहयोगी मारा गया था, लेकिन वह बच निकला था। कल रात नवगछिया के भवानीपुर थाना इलाके के नारायणपुर दियारा में हुई मुठभेड़ में दिनेश मुनि मारा गया।

Post a Comment

0 Comments