महाराणा प्रताप की जीवनगाथा आज भी देश और समाज के लिए प्रेरणादायक

बेगूसराय- हरेराम दास: कोरोना वायरस वैश्विक महामारी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आदेशानुसार देश में 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लगाया गया था उसके बाद हर राज्यों के मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार देश के हर राज्य में लॉक डाउन 3.0 जारी है । इसी कड़ी में वीर सपूत, महान योद्धा और अदभुत शौर्य व साहस के प्रतीक महाराणा प्रताप की आज जयंती है। महाराणा प्रताप का जन्म 9 मई, 1540 को कुंभलगढ़ दुर्ग (पाली) में हुआ था। इस मौके पर देश भर के कई नेता व सामाजिक कार्यकर्ता एवं एवं शिक्षाविद  के बुद्धिजीवी उन्हें याद कर रहे हैं। दरअसल बेगूसराय में भी सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए आज वीर महाराणा प्रताप सिंह की जयंती मनाई गई। शहर के वीर कुंवर सिंह पार्क में पूर्व मेयर संजय कुमार, शिक्षाविद अशोक कुमार सिंह अमर के नेतृत्व में गौरव सिंह राणा समेत दर्जनभर बुद्धिजीवियों ने महाराणा प्रताप की तस्वीर पर माल्यार्पण कर उन्हें याद किया।
इस मौके पर पूर्व मेयर के द्वारा कोरोना काल में लगातार राहत सामग्री  देकर लोगों की सेवा कर रहे वही सेवानिवृत्त सिविल सर्जन डॉ शशि भूषण प्रसाद शर्मा को पीपीई किट और गमछा ओढ़ा कर सम्मानित भी किया । जयंती के मौके पर लोगों ने कहा कि आज महाराणा प्रताप से सीख लेने की जरूरत है वह कभी भी अपने स्वाभिमान को बेचकर कोई काम नहीं किया और ना ही किसी की गुलामी को ही कबूल किया। ऐसे महाराणा प्रताप को याद कर और उनके बताए रास्ते पर चलने का संकल्प भी लिया गया। लॉक डॉउन की वजह से इस जयंती समारोह में कम संख्या में लोगों ने सोशल डिस्टेंस का पालन कर उन्हें याद किया।
मौके पर क्रम में नगर निगम के पूर्व महापौर सह जदयू नेता संजय सिंह,आर्यभट्ट कोचिंग शिक्षण संस्थान निदेशक अशोक कुमार सिंह अमर, बाइट कम्प्यूटर कोचिंग शिक्षण संस्थान के निदेशक संजय कुमार सिंह, जदयू महानगर अध्यक्ष मुकेश कुमार जैन, समाज सेवी अनिता राय, माया कौशल्या फाउंडेशन के डायरेक्टर रौशन जी,  छात्र जदयू के जिलाध्यक्ष सौरभ कुमार, युवा नेता समीर सिंह चौहान, कृष्णा सिंह, डाक्टर राजीव कुमार सिंह, कृष्णा सिंह, विलो सिंह, जगत कुमार, मुकेश कुमार, उतम कुमार आदि मौजूद थे।

Post a Comment

0 Comments