LOCKDOWN : कालाबाजारी रोकने के लिए SDM ने निकाला तरीका, ग्राहक बनकर दुकानों पर मारा छापा

देश मुश्किल घड़ी से जूझ रहा है, इस संकट से बाहर निकालने के लिए लॉकडाउन को लागू किया गया है. लेकिन कुछ लोग इसका फायदा उठाकर औने-पौन दाम में सामान बेच रहे हैं. मगर इस कालाबाजारी को रोकने के लिए प्रशासन भी सख्त है.


लखनऊ: देश मुश्किल घड़ी से जूझ रहा है, इस संकट से बाहर निकालने के लिए लॉकडाउन को लागू किया गया है. लेकिन कुछ लोग इसका फायदा उठाकर औने-पौन दाम में सामान बेच रहे हैं. मगर इस कालाबाजारी को रोकने के लिए प्रशासन भी सख्त है. लखनऊ की SDM पल्लवी मिश्रा खुद ग्राहक बनकर बाजार में पहुंची और दुकानदारों पर कार्रवाई की.

दरअसल कोरोना वायरस के संकट के बीच कालाबारी को रोकने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्रवाई के निर्देश दिए हैं. उनके आदेश के बाद SDM पल्लवी मिश्रा खुद ग्राहक बनकर दुकानों पर छापा मारा. इस दौरान उन्होंने कुछ दुकानदारों को हिदायत देकर छोड़ दिया, तो कुछ पर कार्रवाई की. इस सख्ती के बाद अब ज़्यादातर दुकानदार मुनासिब क़ीमतों पर सामान दे रहे हैं.


आपको बता दें कि खाने के सामान की कीमतें तय कर दी गई है.

1 किलो ग्राम आटा - 28-30 रुपये

1 किलो ग्राम चावल - 30-35 रुपये

1 किलो ग्राम अरहर दाल - 90-105 रुपये

1 किलो ग्राम मसूर - 58-60 रुपये

1 किलो ग्राम चना - 60-65 रुपये

1 किलो ग्राम नमक - 15-20 रुपये

1 किलो ग्राम चीनी - 38-40 रुपये

1 किलो ग्राम सरसों का तेल - 100-120

100 ग्राम चाय पत्ती - 20-25 रुपये

50 ग्राम सब्जी मसाला - 25 रुपये

100 ग्राम पिसी हल्दी - 25 रुपये

100 ग्राम पिसी लाल मिर्च - 28-30 रुपये

अधिकारियों ने बताया कि जमाखोरी और कालाबाजारी की शिकायतें मिलने पर कार्रवाई की जा रही है. लेकिन हमने जिले में सभी जरूरी खाद्य सामग्रियों की कीमतें निर्धारित कर दी हैं. यह कीमतें बाजार में प्रचलित दरों के औसत के आधार पर निर्धारित की गई हैं.

Post a Comment

0 Comments