Coronavirus Update in Bihar : कोरोना से जंग के बीच ड्यूटी से गायब रहे 76 डॉक्टर, विभाग ने मांगा स्पष्टीकरण

पटना : बिहार स्वास्थ्य विभाग ने अनधिकृत तौर पर ड्यूटी से गायब रहने वाले 76 चिकित्सा पदाधिकारियों को तीन दिन के अंदर अपना स्पष्टीकरण देने का निर्देश दिया है. बिहार स्वास्थ्य विभाग ने कोविड-19 वैश्विक महामारी की रोकथाम के विभाग के अथक प्रयास के दौरान अनधिकृत अनुपस्थिति के संबंध में 76 चिकित्सा पदाधिकारियों से तीन दिन के अंदर अपना स्पष्टीकरण विभाग को देने का निर्देश दिया और यह पूछा कि क्‍यों नहीं आपके खिलाफ नियमानुकूल प्रशासनिक तथा आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 एवं महामारी अधिनियम 1897 की सुसंगत धाराओं के तहत कार्रवाई की जाये. 
स्वास्थ्य विभाग द्वारा सोमवार को जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि अनधिकृत रूप से अनुपस्थित पाये गये शेष 122 पदाधिकारियों पर कार्रवाई की जा रही है. स्वास्थ्य विभाग द्वारा 13 मार्च को जारी एक आदेश के तहत कोरोना वायरस से उत्पन्न संक्रमण की रोकथाम एवं इसके निरोधात्मक उपाय के लिए विशेष चौकसी एवं अनुश्रवण की आवश्यकता को देखते हुए राज्य के सभी चिकित्सा पदाधिकारियों, (संविदा नियोजित सहित), नर्स, पैरामेडिक्स एवं चतुर्थ वर्ग के कर्मियों के सभी प्रकार के अवकाश (अध्ययन अवकाश एवं मातृत्व अवकाश को छोड़कर) को रद्द करते हुए सभी चिकित्सा पदाधिकारियों एवं स्वास्थ्यकर्मियों को अविलंब अपने कर्तव्य का निर्वहन करने का निर्देश दिया था.

इसके बावजूद 31 मार्च को 76, एक अप्रैल को 60 तथा दो अप्रैल को 62 चिकित्सा पदाधिकारी अनधिकृत रूप से अनुपस्थित पाये गये थे. बिहार में कोरोना वायरस संक्रमण का सोमवार को भी कोई नया मामला प्रकाश में नहीं आने के साथ प्रदेश में इस रोग से गत शनिवार तक 32 लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि इससे मुंगेर निवासी एक मरीज की 21 मार्च को मौत हो गयी थी.
बिहार में अब तक मुंगेर जिला में 7, सीवान में 6, पटना एवं गया में में 5-5, गोपालगंज में 3, नालंदा में 2, लखीसराय, बेगूसराय, सारण और भागलपुर में एक-एक व्यक्ति कोरोना वायरस संक्रमित पाये गये हैं. बिहार में अब तक तक कोरोना वायरस के 3329 संदिग्ध नमूनों की जांच की जा चुकी है जिसमें से अब तक 3293 निगेटिव पाये गये हैं.

Post a Comment

0 Comments