लॉक डाउन की धज्जियां उड़ाने वाले पर कारबाई की मांग पर एक दिवसीय उपवास सह सत्याग्रह आंदोलन किया माले नेता सुरेंद्र प्रसाद सिंह।



अमरदीप नारायण प्रसाद

मुख्यमंत्री,चीफ़ सेक्रेटरी को स्मार- पत्र भेजा गया- माले
हर हाल में लाकडाउन का पालन करने की जनता से अपील

  सम्मान समारोह के नाम पर पुलिस की उपस्थिति में रविवार को दीनबंधु सामाजिक संस्था के बैनर तले बड़ी संख्या में जुटकर लोगों द्वारा शहर के आजाद चौक से लेकर आभरब्रीज तक जुलूस निकालकर लाकडाउन की धज्जियां उड़ाने वाले पर कारबाई की मांग को लेकर शहर के विवेक-विहार मुहल्ला स्थित अपने आवास पर भाकपा माले जिला कमिटी सदस्य सुरेंद्र प्रसाद सिंह ने सुबह से ही एक दिवसीय उपवास सह सत्याग्रह आंदोलन पर बैठे गये.
  मौके पर उन्होंने कहा कि कोरोना से बचाव को लेकर सरकार द्वारा लागू लाकडाउन ही सर्वोत्तम उपाय है. सरकार के आदेश पर प्रशासन ने इस पर जिला में भी काफी सख्ती दिखाई. जरूरी काम से भी बाहर निकलने वालों पर पुलिस की डंडे चले, दुकानदारों पर कारबाई की गई, एफआईआर दर्ज किए गए बाबजूद लोगों ने लाकडाउन का भरपूर समर्थन किया.
  लाकडाउन टूटे न, इसके लिए विवेक-विहार मुहल्ला निवासी सेवानिवृत्त जनसेवक रामचंद्र महतो समेत दर्जनों लोगों ने श्राद्धकर्म व शांतिभोज टाल दिया. यहाँ तक कि जदयू के राज्य सभा सांसद श्री रामनाथ ठाकुर ने अपनी पत्नी की निधन पर श्राद्धकर्म को संक्षिप्त कर भोज स्थगित कर दिया. धरमपुर निवासी शाहीद रजा समेत सैकड़ों परिवारों ने अपने पुत्र-पुत्री की शादी टाल दिए. जरूरी ईलाज को लोगों ने स्थगित रखा. सीएए,एमआरसी एवं एनपीआर के खिलाफ लंबे समय से जारी सत्याग्रह आंदोलन को स्थगित कर दिया गया. लाकडाउन के दौरान भूखों को भोजन देने पर रोक लगा दिया गया. अमीर से गरीब तक जो जहाँ फंसे हैं वहीं ठहरे हुए हैं. प्रशासन से भोजन व राशन, मास्क, सैनिटाईजर आदि बांटने की अनुमति चेतना सामाजिक संस्था, बिहार यूथ फेडरेशन, आइसा, इनौस, माले समेत दर्जनों सामाजिक संस्था, राजनैतिक दल, संगठनों को नहीं दी गई.
 फिर किस परिस्थिति में और किनके आदेश से सामाजिक संस्था दीनबंधु द्वारा इतना बड़ा कार्यक्रम पुलिस सम्मान समारोह आजाद चौक से आभरब्रीज तक जुलूस बगैर सुरक्षा मानक अपनाए निकालकर पुलिस की उपस्थिति में लाकडाउन की धज्जियां उड़ाई गई. जुलूस में महिलाएं,बच्चे और सत्ताधारी दलों के नेता, जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों के शामिल होने पर माले नेता ने आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा कि यह यक्ष प्रश्न है. जिलेवासी इसका जबाब चाहते हैं. इसी मसले से पर्दा उठाने को लेकर चर्चित आंदोलनकारी सुरेंद्र प्रसाद सिंह ने कहा कि वे एक दिवसीय उपवास सह सत्याग्रह आंदोलन पर बैठे हैं. उन्होंने लाकडाउन तोड़ने वाले तमाम दोषियों पर कारबाई की मांग से संबंधित स्मार- पत्र मुख्यमंत्री, चीफ सेक्रेटरी आदि को भेजे जाने की जानकारी देते हुए उन्होंने जिलेवासी से अपील की है कि हमें हर हाल में अपने- अपने घरों में रहकर लाकडाउन को सफल बनाना हैं. माले नेता ने जिले में अबतक कोरोना के एक भी पाजिटिव मामला नहीं मिलने पर जिला प्रशासन के कार्यप्रणाली की सराहना करते हुए इसे निष्पक्षता एवं पारदर्शितापूर्वक जारी रखने की मांग भी की है. उन्होंने कहा बाबा साहब अंबेडकर का संविधान हमें समानता का अधिकार देता है तो पुलिस- प्रशासन को भी आम और खास में अंतर करने से बचना चाहिए.

Post a Comment

0 Comments