रमज़ान में रोजेदारों को नहीं होगी किसी भी तरह की कोई परेशानी , ढाका प्रशासन ने दिया आश्वासन



इमाम जामा मस्जिद ढाका की अपील : तरावीह की नमाज़ अपने घर में ही अदा करें

सिकरहना[अब्दुस्समद] कोरोना वायरस से पूरे देश में 3 मई तक लॉकडाउन है. लॉकडाउन के बीच ही 24 अप्रैल से मुबारक महीना रमज़ान भी है.मुस्लिम समुदाय के लिए ये इबादत का महीना होता है. लोग इस महीने में दिन का रोज़ा रखते हैं और रात में तरावीह पढ़ते हैं और खूब इबादत करते हैं । साथ ही एक दूसरे के साथ इफ्तार भी करते हैं
इन्हीं विषयों को लेकर आज सिकरहना अनुमंडल मुख्यालय ढाका में एस डी एम ज्ञान प्रकाश की अध्यक्षता में एक मीटिंग आयोजित हुई ।



जिसमें मुस्लिम समाज की ओर से ढाका जामा मस्जिद के इमाम मौलाना नजरुल मोबीन नदवी ने प्रशासन को ये विश्वास दिलाया कि :  कोरोना संक्रमण के चलते लोग इस बार घर से ही इबादत करेंगे । वही तरावीह की नमाज़  को भी घर में अदा करने की अपील की गई है जिस पर लोग शत प्रतिशत अमल करेंगे ।
वहीं उन्हों ने प्रशासन से आग्रह किया कि : इस महीने रोज़े का इहतीमाम करते हैं जिस की वजह से लोग सामानों की खरीदारी करते हैं । इसलिए प्रशासन इन बातों को ध्यान में रखते हुए किसी को किसी तरह की तकलीफ ना हो इसका हल ढूंढे ।
जिस पर एस डी एम ज्ञान प्रकाश , ए एस पी सह थानाध्यक्ष अरविंद प्रताप सिंह , डी एस पी शिवेंद्र अनुभ्वी  ने विश्वास दिलाया कि : ढाका प्रशासन सभी लोगों का सहयोग करेगी और लोग सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक खरीदारी कर सकेंगे । जहां
सोशल दिस्टेंसिंग का पालन करना अनिवार्य होगा वही दुकानें खुलेंगे जिसको खोलने की अनुमति पहले से है ( जैसे : फल , सब्ज़ी , दूध एवं किराना दुकान )
वहीं एएसपी अरविंद प्रताप सिंह ने भी अपील की के लोग बिला जरूरत घर से बाहर नहीं निकले , ज़रूरत की चीजें 2 /3 दिनों का लेकर रखें , आप लोग तरावीह घर में करें अपने परिवार के साथ जमात अदा करें ।
इस अवसर पर ढाका जामा मस्जिद के इमाम मौलाना नजरुल मोबीन नदवी ने  इस बार घर से ही इबादत करने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए बाहर न निकलने की अपील इलाके के लोगों से की है. रमज़ान के महीने में तरावीह के लिए मस्जिद न जाने की भी सलाह दी है. ढाका जामा मस्जिद के इमाम मौलाना नजरुल मोबीन नदवी ने कहा कि रमज़ान का महीना इबादत और दुआ व मगफिरत का महीना है. इस  महीने में लोग तरावीह और नमाज़ का ईहतेमाम करते हैं साथ साथ इफ्तार पार्टी भी करते हैं लेकिन इस बार करोना संक्रमण के मद्देनजर इं सभी चीज़ों से परहेज करें और सभी अपने घरों में ही रहकर इबादत करें और इफ्तार भी घर पर ही करें ।  साथ साथ अपने घर , समाज और अपने रिश्तेदारों के अलावा पूरे मुल्क व दुनिया की सलामती के लिए भी दुआ का इहतिमाम करें. कोरोना वायरस को फैलने से रोकने का एक यही तरीका है कि हम अपने-अपने घरों में रहें और लॉकडाउन का पालन करें ।

Post a Comment

0 Comments