मोतिहारी में नही मिला एंबुलेंस तो कैंसर पीड़ित बच्चे ने दादा की गोद में तोड़ा दम

मोतिहारी। लॉकडाउन उस पिता के लिए भारी पड़ गया जब वाहन के अभाव में उसकी आंखों के सामने उसके बच्चे की तड़प-तड़पकर मौत हो गई। मामला पूर्वी चम्पारण जिले के कल्याणपुर का है। छः साल का बच्चा प्रिंस कैंसर से पीड़ित था। दो वर्षों से पटना के महावीर कैंसर संस्थान में उसका इलाज चल रहा था। अचानक तबियत बिगड़ जाने पर उसे शनिवार की शाम इलाज के लिए कल्याणपुर स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया। यहां चिकित्सकों ने बच्चे को मोतिहारी सदर अस्पताल रेफर कर दिया।

पिता द्वारा बच्चे को एंबुलेंस से पटना पहुंचाने की गुहार लगाई गई। मगर डाॅक्टर द्वारा इंकार कर दिया गया। पिता का कहना है कि किसी स्वास्थ्य कर्मी ने कहा कि पांच हजार दो मैं पटना भेज दूंगा। मगर पिता के पास पांच हजार रुपये नहीं थे। अंतत: बच्चे ने अपने दादा दीना साह की गोद में दम तोड़ दिया।

इस संबध में डाॅ. मोहित मिश्रा ने बताया कि अभिभावक द्वारा बच्चे को इलाज कराने के लिए लाया गया था। लेकिन गंभीर स्थिति के कारण उसे मोतिहारी रेफर कर दिया गया। वे लोग एंबुलेंस को पटना ले जाने की मांग कर रहे थे। लेकिन उन्हें एंबुलेंस से मोतिहारी छोड़ने के लिए बोला गया था। कुछ समय बाद वे लोग अपने घर चले गए। अभिभावक द्वारा लगाया गया आरोप गलत है।

Post a Comment

0 Comments