-->

मेरी ब्लॉग सूची

International Womens Day 2020: हौसले के बल पर कामयाबी की उड़ान, प्रेरित करती इसकी दास्‍तान...

International Womens Day 2020: हौसले के बल पर कामयाबी की उड़ान, प्रेरित करती इसकी दास्‍तान...

पटना । महिलाएं आधी आबादी हैं। आज वे हर क्षेत्र में आगे आ रही हैं। समाज भी उनके हौसेले को सलाम कर रहा है। पटना में ऑटो रिक्‍शा चलाने वाली संगीता या सुष्मिता हों, या पावर ग्रिड संभालने वाली सहायक विद्युत अभियंता मोनिका कुमारी के नेतृत्‍व वाली महिलाओं की टीम, उन्‍होंने साबित कर दिखाया है कि मौका मिले तो वे किसी से कम नहीं। महिला दिवस के मौके पर आइए नजर डालते हैं ऐसी कुछ महिलाओं पर, जिन्‍होंने परम्‍परागत पुरुष प्रधान क्षेत्रों में अपने बल पर मुकाम हासिल किया है।
ऑटो रिक्‍शा चला रोल मॉडल बनीं संगीता-सुष्मिता
न्‍यूज एजेंसी एएनआइ के अनुसार पटना की संगीता कुमारी एवं सुष्मिता कुमारी ऑटो रिक्‍शा चलाती हैं। वे रोजाना एयरपोर्ट से यात्रियों को लेकर राजधानी में उनके गंतव्‍य तक पहुंचाती हैं। आरंभिक दौर में यह काम आसान नहीं लगा, लेकिन हिम्‍मत कामयम रखी। संगीता व सुष्मिता ने अपने हौसले के बल पर इस पुरुष प्रधान रोजगार में जगह बनाने में कामयाबी हासिल की। अब वे महिलाओं के लिए रोल मॉडल हैं।
वे कहती हैं कि अपनी समस्‍याओं को खुद ही हल करना पड़ता है। अपने काम पर गर्व महसूस करने वाली इन महिलाओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील की कि वे खुद के पैरों पर खड़ा होने में महिलाओं को और मदद करें।

Sangeeta Kumari & Sushmita Kumari who drive autorickshaw at Patna airport say,"One has to work hard to solve one's problems. We feel proud that we earn a living for ourselves. We urge PM to provide all possible support to women to encourage them to work independently".
Twitter पर छबि देखेंTwitter पर छबि देखेंTwitter पर छबि देखेंTwitter पर छबि देखें
188 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं
पावर ग्रिड के संचालन में जुटी महिलाओं की टीम
पटना के 200 एमवीए क्षमता वाले करबिगहिया पावर ग्रिड का संचालन 15 महिलाओं की टीम कर रही हैं। इन महिलाओं की कुशलता ऐसी कि करीब ढ़ाई साल की इस अवधि के दौरान ग्रिड में किसी प्रकार की तकनीकी खराबी नहीं आई।  यहां महिलाएं तीन पालियों में तैनात की गई हैं। सहायक विद्युत अभियंता मोनिका कुमारी एवं कनीय विद्युत अभियंता रजिया सुल्तान के साथ 13 महिला ऑपरेटर तैनात हैं। इस ग्रिड से पटना जंक्शन, मौर्यालोक, बंदरबगीचा, एसके मेमोरियल हॉल, राजेंद्र नगर, कंकड़बाग सहित कई पावर सब स्टेशनों को बिजली की आपूर्ति की जाती है।

सहायक विद्युत अभियंता मोनिका कुमारी कहती हैं कि यहां की सभी महिलाएं अपने काम में दक्ष हैं। यहां तैनात रेणु कुमारी व नेहा कुमारी बताती हैं कि केवल महिलाकर्मियों की तैनाती से वे बेहतर महसूस करती हैं

0 Response to "International Womens Day 2020: हौसले के बल पर कामयाबी की उड़ान, प्रेरित करती इसकी दास्‍तान..."

टिप्पणी पोस्ट करें