पैसे लेकर पुलिस स्टेशन से शराबियों को छोड़ने पर थानेदार सहित तीन पुलिसकर्मी सस्पेंड

PATNA: एक तरफ डीजीपी शराब मामले में पकड़े जाने पर कड़ी कार्रवाई की बात कर रहे हैं, तो दूसरी तरफ थाने से ही रुपये लेकर शराबियों को छोड़ दिया जा रहा है। कुछ ऐसी ही घटना बुधवार को धनरुआ थाने में हुई। बुधवार की रात पुलिस ने मुखिया के भतीजे के साथ पांच अन्य लोगों को शराब की बोतल और शराब पीने के जुर्म में पकड़ा। थाने लेकर लाई, लेकिन कुछ देर बाद शराबियों से रुपये लेकर उन्हें छोड़ दिया गया।

किसी ने इस बात की सूचना एसएसपी को दी। इसके बाद सिटी एसपी पूर्वी जितेंद्र कुमार व मसौढ़ी डीएसपी धनरुआ थाने पहुंचे। जांच के दौरान थाने से छोड़े गए सभी छह आरोपितों को दोबारा थाने लाया गया। इसमें पांच के शराब पीने की पुष्टि हुई। पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। सिटी एसपी ने शुक्रवार को जांच रिपोर्ट एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा को सौंप दी। एसएसपी ने धनरुआ के थानेदार सब इंस्पेक्टर सुमन कुमार, चालक योगेंद्र और चौकीदार अमिताभ बच्चन को सस्पेंड कर दिया। इन सभी पर विभागीय कार्रवाई भी शुरू कर दी गई है।

बुधवार की शाम करीब सात बजे पुलिस गाड़ी के चालक योगेंद्र और अन्य पुलिसकर्मियों ने मोरियावा की मुसहरी में दबिश दी। पुलिस ने वहां से गांव के ही सीताराम साव, जितेंद्र कुमार, रोहित कुमार, सुशील कुमार, आनंद कुमार और नंदन कुमार को नशे की हालत में पकड़ लिया और थाने ले आए। सूत्रों की मानें तो पकड़े गए एक युवक के पास शराब की एक बोतल भी बरामद हुई थी। हालांकि पुलिस ने उन्हें हाजत में नहीं रखा। चालक योगेंद्र ने सभी को थाने के पीछे बैठा दिया।

नशे में धुत ने बताई पूरी बात

करीब दो घंटे बाद एक को छोड़ बाकी पांच से लेनदेन कर वहां से भगा दिया गया। इस बात की सूचना किसी ने एसएसपी को कर दी। एसएसपी ने मसौढ़ी डीएसपी सोनू कुमार को थाने भेजा। अभी वह जांच कर ही रहे थे कि सिटी एसपी पूर्वी भी पहुंच गए। सिटी एसपी ने देखा कि थाने के पीछे एक युवक नशे में धुत गिरा है। उसे पकड़कर लाया गया। पुलिस ने जिसे पहले से बैठाकर रखा था उससे भी पूछताछ हुई। तब उसने पूरी बात सिटी एसपी को बताई।

चालक ही दोबारा पकड़कर  सभी को थाने लाया

सिटी एसपी की जांच में पता चला कि चालक और चौकीदार ने पकड़े गए लोगों को भगा दिया है। उस समय थानेदार गश्ती पर गए हुए थे। सिटी एसपी की फटकार के बाद चालक और चौकीदार थाने से छोड़े गए सभी पांच आरोपितों को दोबारा पकड़कर ले आए। जांच में पांचों के शराब पीने की पुष्टि हुई। जांच देर रात करीब तीन बजे तक चली। चौकीदार और चालक की मिलीभगत की पुष्टि और थानेदार की भूमिका भी संदिग्ध देखते हुए उनपर कार्रवाई की गई।

इनपुट- जागरण

Post a Comment

0 Comments