बच्चों को अपने माता पिता गुरुजनों का सम्मान करने से ही ज्ञान ऊर्जा मिलता है : स्वीटी राज

शिक्षक दिवस पर पूरे भोजपुर जिले में कार्यक्रमों की धूम

रिपोर्ट तारकेश्वर प्रसाद

आरा : शिक्षक दिवस पर पूरे भोजपुर जिले में कार्यक्रमों की धूम मची रही. इसे लेकर जगह-जगह पर कार्यक्रम आयोजित किये गये. वहीं कार्यक्रमों में शिक्षकों को सम्मानित किया गया. जिले के सभी प्राइवेट एवं सरकारी विद्यालयों में शिक्षक दिवस मनाया गया. पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्म दिन पर उनके सम्मान में शिक्षक दिवस का आयोजन किया जाता है. छात्रों ने अपने-अपने विद्यालयों में अपने गुरुओं को सम्मानित किया. इस अवसर पर छात्रों द्वारा शिक्षकों को उपहार भी दिया गया. शिक्षक राष्ट्र का निर्माता होता है. वह बच्चों का भविष्य संवारता है. इस कारण समाज का वह अति सम्मानित व्यक्ति होता है. इसे लेकर ,जिला स्कूल ,क्षत्रिय स्कूल, जैन स्कूल, बीडी पब्लिक स्कूल, डीएवी स्कूल, जींन पॉल स्कूल, सरस्वती विद्या मंदिर, सिंगही, सरस्वती शिशु मंदिर महाराजा, हाता, ब्रह्मर्षि स्कूल, ज्ञान ज्योति,यादव स्कूल, गर्ल्स स्कूल, नवादा सहित सभी विद्यालयों में शिक्षक दिवस पर कार्यक्रम आयोजित किया गया.वही शिक्षक दिवस पर वक्ताओं ने कहा कि शिक्षक से बढ़कर कोई गुरू नहीं होता है क्योंकि इन शिक्षकों से ही बच्चों को सही संस्कार मिलता है. आज के युग में शिक्षा से बढ़कर कोई चीज नहीं है. घर प्रथम पाठशाला है एवं माता प्रथम शिक्षिका होती है। मां बच्चे को जैसा संस्कार देगी, वही बच्चे में पल्लवित एवं पुष्पित होंगे। बच्चों को अपने माता पिता गुरुजनों का सम्मान करना चाहिए। शिक्षक दिवस के अवसर पर प्रखंड मुख्यालय सहित विभिन्न विद्यालयों में धूमधाम से मनाया गया. इस अवसर पर जगह-जगह सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ निबंध, चित्रकला एवं पेटिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया.

Post a Comment

और नया पुराने

BIHAR

LATEST