लोहार समाज के लोगो ने रोकी बक्सर पटना सवारी गाडी ट्रेन , जमकर किया प्रदर्शन,हंगामा

तारकेश्वर प्रसाद


आरा। केंद्र सरकार द्वारा जारी जनजाति अधिनियम 23/2016 में लोहार जाति को लोहारा किये जाने के बाद लोहार जाति को तमाम सुविधाओं से वंचित रहना पड़ रहा है। लोहार जाति को लोहारा किये जाने के बाद कानून मंत्रालय और जनजाति मंत्रालय में मामला फंसा हुआ है जिसमें संशोधन को लेकर लोहार विकास मंच द्वारा प्रधानमंत्री को कई बार पत्र लिखे जाने के बाद अबतक इनकी मांगों को पूरा नहीं किया जा सका है।


शिवहर के पूर्व एसपी एवं बीएमपी 16 के कमांडेंट सुनील कुमार के शिवहर आगमन पर राजद के नेताओं ने किया स्वागत


जिससे नाराज होकर लोहार जनजाति के सैकड़ों लोग इकट्ठा होकर लोहार विकास मंच के बैनर तले आज सुबह आरा रेलवे स्टेशन पर डाउन लाइन पर बक्सर पटना सवारी गाडी ट्रेन रोककर जमकर  प्रदर्शन सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। रेल रोको अभियान के लोहार बिकास मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष राज किशोर शर्मा ने कहा कि
भारत सरकार अभी नोटिफिकेसन को देवनागरी और रोमनलिपि में आज भी पेज डाल कर भारत का राज्यपत्र रोक रखा है। जिससे लोहार जाती समाज चिंतित और परेशान हैं। किसी भी बिन्दु पर सरकार बात सुनने का नाम नही ले रही है।वही कुछ दिन पहले  दो दिन दिल्ली सत्यग्रह के बाद लोक सभा मे भी मामला उठाया गया। मगर अभी तय क्या किया गया कोई सूचना नही हैं।


सीतामढ़ी : नाच देखने गए 200 से ज्यादा लोगों ने की आंखों में दर्द और जलन की शिकायत 


अगर अधिनियम में अविलंब संसोधन कर लोहारा शब्द को लोहार नही किया गया और बड़ी आंदोलन किया जाएगा। वही उन्होंने बताया कि ऐसा नहीं है कि बिहार लोहार का मामला कोई नया है, यह काफी पुराना है इससे पहले 1956, 1976, 2006 तक जनजाति अधिनियमों में लोहार शब्द का प्रयोग किया जाता रहा है मगर इसे अधिनियम 23/2006 में इसे लोहारा कर दिया गया जिससे इस जनता को कई योजनाओं से वंचित रहना पड़ रहा है। बता दें कि जनजाति अधिनियम 48 अब प्रचलन में नहीं रहा मगर नए अधिनियम 23/2016 में भी लोहार जाति को लोहारा ही अंकित किया गया है। रेल रोककर प्रदर्शन कर रहे लोहार विकास मंच के कार्यकर्ताओं सुनील शर्मा  ने कहा कि हमारा अधिकार पूर्व के तरह लोहार ही होता है। जब कोई अधिनियम रद्द या नया लागू किया जाता है तोअधिसूचना जारी की जाती है। प्रदर्शन कर रहे लोग अविलंब कानून मंत्रालय और जनजाति मंत्रालय से लोहार शब्द अधिनियम में अंकित कराने की मांग कर रहे थे। प्रदर्शनकर्ताओं ने  गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि यह मामला कानून और जनजाति मंत्रालय के खींचतान में फंसा हुआ है जो कि बिहार के नेताओं के इशारे पर किया जा रहा है। साथ ही साथ लोहार विकास मंच ने कहा कि जो कोई हमारे अधिकार को रोकेगा उसे हम आगामी 2019 के आम चुनाव में सबक सिखाने का काम करेंगे।

1 टिप्पणियाँ

  1. Seabiscuit brought racing for the big screen with a celebration on the mighty Seabiscuit.
    The software can't produce the pictures and slides to represent
    your web site. But a software can't develop the strategies of SMO. http://bigrigg.us/guestbook/

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने

BIHAR

LATEST